शुक्रवार, 6 जनवरी 2012

यात्रा: हिमाचल, पंजाब और हरियाणा की देविओं की - भाग २

यात्रा का प्रथम दिवस – देवी तालाब, जालंधर

दिल्ली में लोदी कालोनी, गौतम नगर, पालम, महावीर इन्क्लेव, डाबरी मोड, पीरागढ़ी, बादली, आदि स्थानों से सभी यात्रियों को लेते हुए बस आगे बढ़ती रही और करीब ८:०० बजे हम दिल्ली के बाहर हरियाणा में दाखिल हुए |

  २८ मार्च की सुबह की धूप धीरे धीरे तेज हो रही थी | ओमाक्स सिटी के बाहर एक लॉन है जिसमें स्प्रिन्कलर घूमते हुए पानी फ़ेंक रहा था और पास ही वृक्षों की एक कतार थी | बस रुकी और सभी यात्री उतर गए | दरियां बिछा दी गयीं | कुछ लोग टहलने लगे और कुछ  पेड़ों के तले आराम करने लगे | बच्चे स्प्रिंकलर के पानी के साथ खेलने लगे | इसी समय रसोइयों ने बढियां चाय और पाव-भाजी का नास्ता परोस दिया | नाश्ते के बाद बस फिर चल पड़ी | 

पंजाब की सीमा पहुँचने तक अपरान्ह २:३० बज गए थे | दोपहर के भोजन के लिए एक ढाबे के पर बस रुकी | कुशल रसोइयों ने तुरत-फुरत में पूड़ी-सब्जी बना कर सबको भोजन करा दिया | भोजन परोसने में सभी की बारी-बारी से भागीदारी रही | एक पंक्ति के लोग भोजन कर चुकने के बाद दूसरी पंक्ति को परोसते | बच्चों में भोजन पसोराने का खासा उत्साह था | यहाँ से बस चली तो ५ बज गए थे | ७ बजे शाम हम थोड़ी देर के लिए लुधियाना के पहले मंजी साहिब खोटन गुरूद्वारे के पास रुके और फिर ९ बजे रात देवी तालाब मंदिर जालंधर पहुँचे | यहाँ पर देवी त्रिपुरमालिनी का सिद्ध शक्तिपीठ है |

जब भगवान शंकर दक्ष के यज्ञ को विध्वंस कर सती देवी के शरीर को लेकर हिमालय की ओर जा रहे थे तब उनका मोह भंग करने के लिए भगवान विष्णु ने चक्र से देवी के अंगों को काटना शुरू किया था और देवी के अंग रास्ते में जहाँ-जहाँ गिरे वहाँ सिद्ध-शक्ति पीठों के रूप में देवी का स्थान बना | जालंधर में देवी का इसी स्थान पर स्तन गिरा और यहाँ देवी का सिद्ध शक्तिपीठ बना | यहाँ भगवती देवी त्रिपुरमालिनी के नाम से विख्यात हुईं और भक्तों की समस्त मनोकामनाओं को पूरा करती है | मंदिर के पास बाद में एक तालाब का निर्माण हुआ और इसके मध्य देवी का एक और मंदिर बना और यह स्थान देवी तलब के नाम से प्रसिद्द हुआ है | तालाब के चारों कोनों पर देव प्रतिमाएं हैं और स्वर्ण मंडित कलश के साथ मंदिर में माँ भगवती की मनोहारी विग्रह है | यहाँ भजन-कीर्तन आदि चलता रहता है और दर्शकों का तांता लगा रहता है | तालाब का पानी पूर्णतः स्वच्छ है तथा उसमें मछलियाँ विचरण करती हैं | इसमें स्नान वर्जित है | तालाब के दक्षिण पूर्वी कोने पर काली देवी का और दक्षिण पश्चिम कोने पर माता वैष्णो देवी के मंदिर हैं | यहाँ अन्य मंदिर भी है | पूरे प्रांगण में स्थित मंदिरों को देखने के लिए २-३ घंटे का समय लगता है | हमने जल्दी-जल्दी मुख्य मंदिरों में दर्शन किया | मान्यता है कि जालंधर में ही जालंधर का विष्णु भगवान ने संहार किया था | जालंधर के नाम से ही शहर का नाम पड़ा |
video

१० बजे के करीब हम यहाँ से आगे बढे | रात करीब ११ बजे बस पंजाब – जम्मू सीमा पर लखनपुर पहुंची | यहाँ थोड़ी ठंढक महसूस हुई | एक बंद हो चुके रेस्ट्रां के पास बस रुकी और सभी नीचे उतरे | यहाँ एक नहर बहती है जिसके किनारे खड़े होकर हवा के ठन्डे झोंकों का सबने आनंद लिया | रात का भोजन बना और सबने भोजन और थोड़ी देर विश्राम किया | रात १२ बजे बस जम्मू की सीमा में दाखिल हुई | एक दिन का टैक्स बचाने के लिए टूरिस्ट बसें इसी समय सीमा पार करती हैं | हमारा अगला पड़ाव कटरा था | जहाँ से अगले दिन हमें वैष्णो देवी जाना था |

शनिवार, 16 अप्रैल 2011

यात्रा: हिमाचल, पंजाब और हरियाणा की देविओं की

यात्रा का आरंभ



हर वर्ष की भांति इस बार भी नौ देविओं की यात्रा पर जाने का कार्यक्रम नवम्बर २०१० में ही बन गया था | वास्तव में हम दर्शन तो नौ से कम देविओं के करते है पर यात्रा का नाम नौ देविओं की यात्रा रखा गया है | नौ अंकों में बड़ा होता है या फिर शायद इसलिए कि कभी न कभी नौ देविओं के दर्शन हो ही जाएँ | हर बार मेरी इच्छा होती थी  कि इस बार नौ का आंकड़ा पूरा हो जाये | इस बार क्या होगा? इस बार के यात्रा की क्या खासियतें रहेंगी ? ये प्रश्न जेहन में हलचल कर रहे थे |


२७ मार्च'११  को यात्रा की शुरुआत थी शाम को ७ बजे से पर तैयारियां तो दो दिन पहले से ही शुरू हो गयी थीं | इस बार मैं, मेरी पत्नी सुमन और पिताजी के ही जाने का हिसाब बन रहा था |  हम इसी उधेड़-बुन में थे कि बच्चों को किसके हवाले किया जाय | बच्चे तो नानी के घर जाना चाहते थे पर हमें लौटने पर शैतानियों के लिए भाषण का डर था इसलिए मैंने ममेरे भाई को घर पर बुलाया था कि वह कुछ दिन अपना विश्वविद्यालय यहीं से जाये और बच्चों को संभल ले |  माँ तो दादी की सेवा में गाँव में पड़ी हैं | भाई के आने से मैं तो निश्चिन्त हो गया था पर एक ही बात मन को साले जा रही थी - अगर उसके परीक्षाओं में जरा भी नंबर कम हुए तो इसके जिम्मेदार हम ही बनेंगे |


रविवार की छुट्टी का दिन था और हम रास्ते के लिए कपडे और अन्य समाज सहेजते आपस में विचार कर रहे थे की छोटे लड़के अनमोल को साथ ले चलें ताकि भाई के ऊपर ज्यादे बोझ न पड़े की तभी फ़ोन की घंटी बजी | यात्रा के संचालक सुरेन्द्र भाई साहब का फ़ोन था | कार्यक्रम में बदलाव था | शाम ६ बजे के बजाय अब २८ मार्च को तडके ४ बजे प्रस्थान की सूचना देने के लिए फ़ोन किये थे |


 "अनमोल को साथ ले चलें ? गाड़ी में जगह हो जाएगी ?" मैंने सकुचाते हुए पूछा|


 "अनमोल को ही क्यों, बड़े को भी ले चलो | दो सीटें खाली हो गयीं है | किसी का प्रोग्राम रद्द हो गया है | बस में बच्चों से रौनक हो जाएगी |" वे बोले |


"पर हमारे पास अभी किराया देने को पैसे नहीं हैं और मई के पहले हम दे भी नहीं पाएंगे |" मैं बोला |


"पैसों के बारे में क्यों चिंता करते हो, बच्चों को ले चलो | पैसे बाद में आ जायेंगे | बस रात में ही लग जाएगी | सबेरे ४ बजे से देर न होने पाए | समय से आ जाना |" उन्होंने कहा और फ़ोन रख दिया |


कार्यक्रम में तबदीली होने के साथ ही काम भी बढ़ गया | बड़ा, अंशु जाने को तैयार ही नहीं हो रहा था | उसे चाचा का साथ अच्छा लग रहा था पर हमें पता था कि वह उसे परीक्षाओं की तैयारी में बाधित करेगा | जान-बूझ कर मुझे कड़क होना पडा  और इनके सामानों को एकत्रित कर बैगों में रखने का कार्य शुरू हो गया | यह तो अच्छा था कि हमने एक हफ्ते के लिए पहले से ही कपडे आदि तैयार कर रखे थे पर फिर भी सामान रखते-रखते १ बज गए | ऐसे अवसरों पर मेरी जिम्मेदारी बढ़ जाती है | मात्र ढाई घंटे की नींद के बाद जग गया |  पिताजी नहा धोकर तैयार थे | बच्चों को फटाफट तैयार कराया और हम बस के लिए रवाना हो गए |


जब हम बस के स्थान पर पहुंचे तो बस न पा कर चकित रह गए | घडी में साढ़े चार बज रहे थे | श्रीमती जी नाराज हो रहीं थीं | "तुम हमेशा देर कर देते हो | अब वे आगे निकल गए और रोकना पड़ेगा |" तभी सुरेन्द्र जी का लड़का दौड़ता हुआ निकला और हमें देखा तो "बस अभी आई है " बोलता हुआ सामने की तरफ दौड़ा | हमने देखा दूर में एक बस खड़ी है | बच्चे कुतूहल-वश उधर देखने लगे और श्रीमती जी होंठों में कुछ बुदबुदाने लगीं | बहरहाल पांच मिनट बाद बस हमारे सामने आ कर रुकी | हमें तब अहसास हुआ कि हम सबसे पहले आ गए थे | सामान रखते-रखाते १ घंटा निकल गया | समय कि पाबन्दी न रखना अपने देश में आम बात है, इस लिए कुछ समझदार लोग ६ बजे तक आये |  पूरे दो घंटे के विलम्ब से बस ६ बजे प्रातः बेला में लोधी रोड, दिल्ली से 'जय माता दी' के नारों की गूँज के साथ यात्रा पर प्रस्थान हुई |


खासियत संख्या १: बच्चे कार्यक्रम न होते हुए भी साथ जा रहे थे और इस बार यात्रा ब्रह्मा मुहूर्त में शुरू हो रही थी |

बुधवार, 13 अप्रैल 2011

यात्रा: हिमाचल, पंजाब और हरियाणा की देविओं की

पिछले महीने मैं अपने कुछ लोगों के साथ वार्षिक यात्रा पर गया था |  इसके बारे में बताना चाहूँगा | 

शीघ्र ही मेरा लेख आपके सामने होगा | कृप्या पुनः इस पृष्ठ पर पधारें |